Saturday, July 16, 2011

किसान और सारस

                     किसी गांव में एक किसान रहता था| किसान बहुत मेहनती था| उसके खेतों में बहुत अच्छी फसल हुआ करती थी| किसान के खेत के पास ही एक जलाशय भी था| जिसके किनारे बहुत सारे बगुले भी रहा करते थे| बगुले किसान की फसल को काफी नुकसान पहुँचाया करते थे| एक दिन किसान ने बगुलों को पकड़ने के लिए अपने खेत में जाल बिछा दिया| कुछ समाय बाद आकर देखा तो, बहुत सारे बगुले जाल में फंसे हुए थे| इस जाल में एक सारस भी फंसा हुआ था| सारस ने किसान से कहा- किसान भाई में बगुला नहीं हूँ मैं ने तुम्हारी फसल बर्बाद नहीं की है| मुझे छोड़ दो| तुम विचार करके देखो कि मेरी कोई गलती नहीं है| जितने भी पक्षी है, मैं उन सब कि अपेक्षा अधिक धर्म-पारायण हूँ| मैं कभी किसी का नुकसान नहीं करता| मैं अपने बृद्ध माता-पिता का अतीव सम्मान करता हूँ और विभिन्न स्थानों में जाकर प्राण-पण से उनका पालन-पोषण करता हूँ|
                    इस पर किसान बोला- सुनो सारस, तुमने जो बातें कहीं, वे सब ठीक हैं,उनपर मुझे जरा भी संदेह नहीं है| परन्तु तुम फसल बर्बाद करने वालों के साथ पकडे गए हो, इसलिए तुम्हें भी उन्हीं लोगों के साथ सजा भोगनी होगी| इसी लिए कहते हैं कि कुसंगत का फल बुरा होता है|

15 comments:

  1. बुरे संगत में जो रहते हैं उन्हें इसका फल तो भोगना ही पड़ता है।
    प्रेरक कथा।

    ReplyDelete
  2. मैं पहली बार आपके ब्लॉग पर आई और मुझे बहुत-बहुत अच्छा लगा... मुझे कहानियाँ बहुत पसंद हैं और खूब पढ़ती हूँ... इनमें से कुछ कहानियाँ मैंने माँ से सुनी हैं, कुछ कहीं-कहीं पढ़ी हैं और कुछ आज पहली बार पढ़ी, बहुत मज़ा आया...मुझे खुशी है कि मुझे कहानियाँ पढ़ने का एक और माध्यम मिल गया... थैंक्यू!!!

    ReplyDelete
  3. burae ka sangath bura hotha hai, tum aacha magar angath bura na

    ReplyDelete
  4. सच में कुसंगत बहुत बुरी होती है।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही अच्छी नसीहत मिलती है कथा से ....
    इसलिये सावधान करता हूँ कि 'कांग्रेस' से और कांग्रेसियों से दूरी बनाकर रखना .. .आप कितने भी सज्जन हों लेकिन दूसरे यही समझेंगे कि जरूर बैंक (दाल) में काला है....

    ReplyDelete
  6. bahut achchi shiksha deti hui kahani achchi lagi.

    ReplyDelete
  7. सदाबहार कहानी....इसीलिए अच्छी संगत करनी चाहिए !

    ReplyDelete
  8. गेंहू के साथ घुन पिसता ही है
    सुन्दर सन्देश देती कहानियों का क्रम जारी रखने हेतु साधुवाद

    ReplyDelete
  9. बहुत ही अच्छी प्रेरणा देती हुए सार्थक पोस्ट

    ReplyDelete
  10. हमेशा की तरह अच्छी कहानी बहुत ही सार्थक पोस्ट!!

    ReplyDelete
  11. गलत संग से बच के रहना चाहिए...

    ReplyDelete
  12. गलत संगत का फल हमेशा बुरा होता है..सार्थक सन्देश देती रोचक कथा..

    ReplyDelete
  13. कबीरा संगत साधु की , हरे और की व्याधि |
    संगत बुरी असाधु की , करे और ही व्याधि ||

    ReplyDelete