Wednesday, February 29, 2012

संगत का असर

                       किसी शहर में एक सेठ रहता था। सेठ  का एक बेटा था। सेठ  के बेटे की दोस्ती कुछ ऐसे लड़कों से थी जिनकी आदत ख़राब थी। बुरी संगत में रहते थे। सेठ को ये सब अच्छा नहीं लगता था। सेठ ने अपने बेटे को समझाने की बहुत कोशिस की पर कामयाब नहीं हुआ। जब भी सेठ उसको समझाने की कोशिस करता बेटा कह देता कि में उनकी गलत आदतों को नहीं अपनाता। इस बात से दुखी हो कर सेठ ने अपने बेटे को सबक सिखाना चाहा। एक दिन सेठ बाज़ार से कुछ सेव खरीद कर लाया और उनके साथ एक सेव गला हुआ भी ले आया। घर आकर सेठ ने अपने लड़के को सेव देते हुए कहा इनको अलमारी में रख दो कल को खाएंगे। जब बेटा सेव रखने लगा तो एक सेव सडा हुआ देख कर सेठ से बोला यह  सेव तो सडा हुआ है। सेठ ने कहा कोई बात नहीं कल देख लेंगे। दुसरे दिन सेठ ने अपने बेटे से सेव निकले को कहा। सेठ के बेटे ने जब सेव निकले तो आधे से जादा सेव सड़े हुए थे। सेठ के लड़के ने कहा इस एक सेव ने तो बाकि सेवों को भी सडा दिया है। तब सेठ ने कहा यह सब संगत का असर है। बेटा इसी तरह गलत संगत में पड़ के सही आदमी भी गलत काम करने लगता है। गलत संगत को छोड़ दे। बेटे की समझ में बात आ गई और उसने वादा किया कि अब वह गलत संगत में नहीं जाएगा। हमेसा आच्छी संगत में ही रहेगा। इस लिए आदमी को कभी भी बुरी संगत में नहीं पड़ना चाहिए।

19 comments:

  1. सही बात है एक मछली सारे तालाब को भी गंदा करती है

    ReplyDelete
  2. संगत का असर तो होता ही है.....

    ReplyDelete
  3. कहानी के माध्यम से अच्छी सीख

    ReplyDelete
  4. संगत से गुण-दोष होत है..

    ReplyDelete
  5. सुन्दर,प्रेरणा दायक संदेस, .... . होली की शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  6. निसंदेह...संगत का असा ज़रूर पड़ता है...

    ReplyDelete
  7. जी हाँ यदि किसी के भी चरित्र को पहचानना हो तो उसके मित्रों को देखकर पहचाना जा सकता है.

    ReplyDelete
  8. संगत का असर पडता है,अच्छे के संगत अच्छा बुरा के संगत बुरा बनता,..
    शिक्षा देती सुंदर कहानी,...बेहतरीन

    फालोवर बन रहा हूँ आप भी बने,मुझे खुशी होगी,....

    NEW POST ...काव्यान्जलि ...होली में...

    ReplyDelete
  9. सुन्दर एवं प्रेरणादायक दादी जी की कहानी !
    आभार !

    ReplyDelete
  10. bahut badiya seekh deti prastuti..

    ReplyDelete
  11. हमें बुरी संगत से बचाना ही चाहिए ! बिलकुल सठिक

    ReplyDelete
  12. बेहतरीन प्रस्तुति,सुंदर प्रेरक कहानी,..
    होली की बहुत२ बधाई शुभकामनाए...

    RECENT POST...काव्यान्जलि ...रंग रंगीली होली आई,

    ReplyDelete
  13. संग का रंग चढ़ता है .

    श्याम रंग में रंगी चुनरिया ,अब रंग दूजो भावे न ,जिन नैनं में श्याम बसें हैं ,और दूसरो आवे न .

    होली मुबारक .
    A man is known by the compny he keeps ,by the books he reads.

    ReplyDelete
  14. sangat ka asar to kabhi mere upar bhi pada tha ....nice post....

    ReplyDelete
  15. संगत की रंगत हमेशा देखने को मिलती है.

    ReplyDelete
  16. Chandan vish vyapat nahi lipte rahat bhujang. KYA Kanhenge Aap?

    ReplyDelete