Sunday, August 23, 2015

मोची का लालच

                     किसी गाँव में एक धनी सेठ रहता था। उसके बंगले के पास एक जूते सिलने वाले गरीब मोची की छोटी सी दुकान थी। उस मोची की एक खास आदत थी कि जो जब भी जूते सिलता तो भगवान के भजन गुनगुनाता रहता था। लेकिन सेठ ने कभी उसके भजनों की तरफ ध्यान नहीं दिया । एक दिन सेठ व्यापार के सिलसिले में विदेश गया और घर लौटते वक्त उसकी तबियत बहुत ख़राब हो गयी । लेकिन पैसे की कोई कमी तो थी नहीं सो देश विदेशों से डॉक्टर, वैद्य, हकीमों को बुलाया गया लेकिन कोई भी सेठ की बीमारी का इलाज नहीं कर सका । अब सेठ की तबियत दिन प्रतिदिन ख़राब होती जा रही थी। वह चल फिर भी नहीं पाता था , एक दिन वह घर में अपने बिस्तर पे लेटा था अचानक उसके कान में मोची के भजन गाने की आवाज सुनाई दी,आज मोची के भजन कुछ अच्छे लग रहे थे सेठ को, कुछ ही देर में सेठ इतना मंत्र मुग्ध हो गया कि उसे ऐसा लगा जैसे वो साक्षात परमात्मा से मिलन कर रहा हो।
                   मोची के भजन सेठ को उसकी बीमारी से दूर लेते जा रहे थे। कुछ देर के लिए सेठ भूल गया कि वह बीमार है उसे अपार आनंद की प्राप्ति हुई । कुछ दिन तक यही सिलसिला चलता रहा, अब धीरे धीरे सेठ के स्वास्थ्य में सुधार आने लगा।
                 एक दिन उसने मोची को बुलाया और कहा:- मेरी बीमारी का इलाज बड़े बड़े डॉक्टर नहीं कर पाये लेकिन तुम्हारे भजन ने मेरा स्वास्थ्य सुधार दिया। ये लो 1000 रुपये इनाम, मोची खुश होते हुए पैसे लेकर चला गया । लेकिन उस रात मोची को बिल्कुल नींद नहीं आई वो सारी रात यही सोचता रहा कि इतने सारे पैसों को कहाँ छुपा कर रखूं और इनसे क्या क्या खरीदना है ?
इसी सोच की वजह से वो इतना परेशान हुआ कि अगले दिन काम पे भी नहीं जा पाया। अब भजन गाना तो जैसे वो भूल ही गया था, मन में खुशी थी पैसे की।
               अब तो उसने काम पर जाना ही बंद कर दिया और धीरे धीरे उसकी दुकानदारी भी चौपट होने लगी । इधर सेठ की बीमारी फिर से बढ़ती जा रही थी ।एक दिन मोची सेठ के बंगले में आया और बोला सेठ जी आप अपने ये पैसे वापस रख लीजिये, इस धन की वजह से मेरा धंधा चौपट हो गया, मैं भजन गाना ही भूल गया। इस धन ने तो मेरा परमात्मा से नाता ही तुड़वा दिया। मोची पैसे वापस करके फिर से अपने काम में लग गया ।
               मित्रों ये एक कहानी मात्र नहीं है ये एक सीख है कि किस तरह हम पैसों का लालच हमको अपनों से दूर ले जाता है, हम भूल जाते हैं कि कोई ऐसी शक्ति भी है जिसने हमें बनाया है। आज के माहौल में ये सब बहुत देखते को मिलता है लोग 24 घंटे सिर्फ जॉब की बात करते हैं, बिज़निस की बात करते हैं, पैसों की बात करते हैं। हालाँकि धन जीवन यापन के लिए बहुत जरुरी है लेकिन उसके लिए अपने अस्तित्व को भूल जाना मूर्खता ही है।
                 आप खूब पैसा कमाइए लेकिन साथ ही साथ अपने माता -पिता की सेवा करिये , दूसरों के हित की बातें सोचिये और भगवान का स्मरण करिये यही इस कहानी की शिक्षा है.

44 comments:

  1. नैतिक कथा रुग्ण जीवन को स्वस्थ कर देती है। एक अच्छी कथा का विस्तार करने के लिए साधुवाद!

    ReplyDelete
  2. सुन्दर बोधकथा

    ReplyDelete
  3. बहुत ही लाजवाब और प्रेरक
    बहुत बहुत धन्यावाद इस कहानी के लिए

    ReplyDelete
  4. nice post is shared above know about our Daily hindi newspaper we are the link between public and Government, leading provider of service news and information that improves the quality of life of its readers by focusing on hindi health news, personal finance,jaipur news in hindihindi education news, travel, cars, news and opinion, aware public about there rights, new information, national news in hindi and international newsin hindi, sports news,entertainment news,business news and market updates.Sanjeevni Today is leading provider of Hindi News,Latest News,Current News in Hindi,Hindi News Paper
    Weekly newspaper provides breaking news in hindi ,online news hindi,today breaking news in hindi.
    rajasthan news, rajasthan government jobs, rajasthan tourism places ,
    rajasthan government jobsat http://www.allrajasthan.com
    shekhawati news in hindi,sikar news in hindi
    khatushyam ji temple
    seo training institute in jaipur

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छा....

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छा....

    ReplyDelete
  7. Very nice .. Robin garg mob. 8386000787

    ReplyDelete
  8. Manoj chitra katha ki कुबेर का खजाना ki ek kahani

    ReplyDelete
  9. Bahut hi achha h ye to ,,,, me SBI me job krti hu

    ReplyDelete
  10. Its true, always remember and faith on God.

    ReplyDelete
  11. यह कहानी बहुत ही दिलचस्प है......ऐसी ही कहानियों को अब आप शब्दनगरी में भी प्रकाशित कर सकतें है और अन्य लेखो का लुफ्त भी उठा सकतें हैं......

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  13. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  14. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  15. आपका धन्यवाद.....इतनी अच्छी कहानी हमारे साथ शेयर करने के लिए|

    ReplyDelete