Tuesday, October 4, 2011

माँ की नसीहत

                         किसी गांव मे एक सेठ रहता था| सेठ के परिवार मे पत्नी और दो बच्चे थे| बेटा बड़ा था और उसका नाम गोमू था| बेटी छोटी थी उस का नाम गोबिंदी था| गोबिंदी घर मे सब से छोटी थी इस लिए सब की  लाडली थी| हर कोई उसकी फरमाइश  पूरी करता था| धीरे धीरे बच्चे बड़े हो गए| बेटा शादी लायक हो गया| सेठ ने एक सुन्दर सी लड़की देख कर बेटे की शादी कर दी| घर मे नईं बहु आ गयी| बहु के आने पर घर वालों का बहु के प्रति आकर्षण बढ गया| गोबिंदी की तरफ कुछ कम हो गया | गोबिंदी इस बात को बर्दाश्त नहीं कर सकी| वह अपनी भाभी से इर्ष्या करने लगी| जब गोबिंदी की माँ को इस बात का पता चला तो उसने गोबिंदी को बुलाकर अपने पास बैठाया और नसीहत देनी शुरु करदी| देखो बेटी  जिस तरह तुम इस घर की  बेटी हो वैसे ही वह भी किसी के घर की  बेटी है| नए घर मे आई है| उसे अपने घर के जैसा ही प्यार मिलना चाहिए| क्या तुम नहीं चाहती हो कि जैसा प्यार तुम्हे यहाँ मिल रहा है वैसा ही प्यार तुम्हारे ससुराल मे भी मिले? अगर तुम किसी से प्यार, इज्जत पाना चाहती हो तो पहले खुद उसकी पहल करो| दूसरों को प्यार दो, प्यार बाँटने से और बढता है| इस लिए तुम पहल  कर के अपनी भाभी से प्यार करो| वह इतनी बुरी नहीं है जितनी तुम इर्ष्या  करती हो| माँ की नसीहत को गोबिंदी ने पल्ले बांध लिया | अपनी भाभी को गले लगाकर प्यार दिया, और हंसी ख़ुशी साथ रहने लगे| जितना प्यार गोबिंदी ने अपनी भाभी को दिया उस से कहीं अधिक प्यार उसको भाभी से मिला| इस लिए कभी किसी से इर्ष्या  नहीं करनी चाहिए|   

12 comments:

  1. अच्छी शिक्षा देती हुई कहानी है अगर आज की लडकियाँ मान ले तो घर स्वर्ग बन जाये, लेकिन ऐसा हो नहीं पा रहा है ससुराल से ज्यादा माँ-बाप की सोची जाती है।

    ReplyDelete
  2. मिलजुलकर सबको रहना है।

    ReplyDelete
  3. साथ तो निभाने से निभता है....... अच्छी कथा

    ReplyDelete
  4. ये तो बिल्कुल ही मेरी मित्र की की कहानी है किन्तु फर्क इतना है की उसके तीन भाई थे और लाख सभी के समझाने के बाद भी वो ये बात नहीं समझ सकी हमें इसका सादा अफसोस रहा क हम उसे ठीक से समझा नहीं सके |

    ReplyDelete
  5. प्यार बाँटने पर प्यार ही मिलता है...

    ReplyDelete
  6. सही है .....प्यार बांटने से ही बढ़ता है

    ReplyDelete
  7. ईष्या से हानि ही होती है। सही सीख है।

    ReplyDelete
  8. विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं। बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व, सभी के जीवन में संपूर्णता लाये, यही प्रार्थना है परमपिता परमेश्वर से।
    नवीन सी. चतुर्वेदी

    ReplyDelete
  9. वाकई, लेने का देना । दशहरे की हार्दिक शुभकानाएँ...

    ReplyDelete
  10. वर्चस्व की लड़ाई में सब हारते ही हैं...सहअस्तित्व के साथ ही घर-परिवार चलते हैं...

    ReplyDelete