Sunday, September 18, 2011

"जो हुआ अच्छा हुआ"

बहुत समय पहले की बात है| एक राजा थे और उनके साथ एक मंत्री थे| उनके मंत्री की आदत थी कि वह कुछ भी होता कहते थे "जो हुआ ठीक हुआ"|एकबार मंत्री का बेटा खेल रहा था, खेलते खेलते वह नीचे गिर पड़ा उसके पैर में चोट लग गई तो मंत्री ने कहा "जो हुआ अच्छा हुआ"|राजा को यह सुन कर हैरानी हुई पर राजा ने कुछ नहीं कहा|
कुछ समय बाद राजा तलवार बाजी का अभ्यास कर रहे थे|अचानक तलवार से राजा की एक अंगुल कट गई, बहुत जोर से खून बहने लग गया| आदत वस मंत्री ने फिर कह दिया "जो हुआ अच्छा हुआ"|राजा को यह सुन कर बहुत गस्सा आया, उन्होंने अपने सैनिकों को हुक्म दिया कि मंत्री को कैद कर के जेल भेज दिया जाए| सैनिकों ने मंत्री को पकड़ कर जेल में बंद कर दिया|
कुछ समय बाद एक दिन राजा शिकार खेलने अकेले जंगल में चले गए वहां वे रास्ता भटक गए| भटकते हुए वे एक आदिवासी इलाके में पहुँच गए| आदि वासियों ने राजा को बंदी बना लिया|वे अपने देवता को खुश करने के लिए नरबली देना चाहते थे| राजा की बलि देने के लिए जैसे ही तलवार उठाई एक ने देखा कि राजा की एक अंगुली कटी हुई है|अंगभंग व्यक्ति की बलि नहीं दीजाती है|उन्हों ने राजा को छोड़ दिया राजा भटकते हुए अपने महल में आगये| महल में पहुंचते ही उन्हों ने मंत्री को हाजिर करने का हुक्म दिया| मंत्री के हाजिर होने पर राजा ने सारी आप बीती सुनाई और कहा "जो हुआ अच्छा हुआ"| मेरे लिए तो यह ठीक ही हुआ, पर आप को जो बेकसूर जेल जाना पड़ा उसके बारे में क्या विचार है| मंत्री ने जवाब दिया "जो हुआ अच्छा हुआ"| अगर मुझे जेल में बंद नकिया होता तो आप मुझे भी शिकार पर साथ लेके जाते और आदिवासी आप को छोड़ कर मेरी बलि देदेते|इस लिए जो हुआ अच्छा हुआ|

15 comments:

  1. बाद में जाकर देखने से लगता है कि जो हुआ, ठीक है।

    ReplyDelete
  2. बिलकुल सही बात... जो कुछ भी हमारे साथ घटित होता है उसमें ईश्वर की मर्ज़ी शामिल होती है और भगवान हमारे साथ कुछ भी गलत तो कर ही नहीं सकते... और ये सोच हमें तकलीफों को सहने की शक्ति भी देती है.... बहुत अच्छी शिक्षाप्रद कहानी...धन्यवाद!!!

    ReplyDelete
  3. bahut achchi kahani hai padhi to achcha hi hua subah subah hoton par muskaan aa gai.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर शिक्षाप्रद कथा....

    ReplyDelete
  5. प्रेरक, शिक्षाप्रद कथा।

    ReplyDelete
  6. चलो ....जो हुआ अच्छा हुआ

    ReplyDelete
  7. कई बार सोच सकरात्मक होनी चाहिए व्यक्ति बुरी से बुरी स्थिति में भी अच्छी बात निकाल ही लेता है कितनो ने अपनी कमजोरी को ही अपनी मजबूती बना लिया है इसी तरह से की जो होता है अच्छे के लिए ही होता है |

    ReplyDelete
  8. बहुत सुंदर! ये कहानी हमने भी सुनी थी अपनी दादी माँ से!!

    ReplyDelete
  9. बहुत ही बढ़िया कहानी,

    ReplyDelete
  10. पूरा गीता का ज्ञान है...

    ReplyDelete
  11. इस प्रकार मै भी सत - प्रतिसत विश्वास करता हूँ ! जो हुआ अच्छा हुआ !

    ReplyDelete
  12. jo hua theek hua,jo hoga theek hogajo hua theek hua,jo hoga theek hoga

    ReplyDelete